DNA क्या होता है?

DNA क्या होता है?: दोस्तो आप लोगो ने अक्सर DNA के बारे में सुना होगा या आपने अपने school की books में भी dna के बारे में पढ़ा जरूर होगा। तो आप ये भी जानते होंगे कि dna कैसे हमारे शरीर की संरचना और उत्पत्ति के लिए जरूरी होता है। लेकिन अगर आप dna के बारे में अधिक नही जानते है तो हम आपको इस post में dna के बारे के जानकारी देने जा रहे है जिसको पढ़ने के बाद आपको dna के बारे में बहुत कुछ पता चल जाएगा।

दोस्तो आप अपने आस पास जितने भी जीव जंतु देखते है जैसे कि गाय, भैंस, बकरी, कुत्ता, चिड़िया, इंसान इन सभी मे dna मौजूद होता है। जिसकी वजह से ये जीवीत रहते है क्योंकि ये ही वो चीज़ है जो कि आपके शरीर के internal functions का data अपने पास store रखती है और इसकी की मदद से हमारे सरीर में प्रोटीन बनते है जिससे कि हमे शक्ति मिलती है और हम अपने  रोज़ के काम कर पाते है।

तो चलिए थोड़ा और विस्तार से DNA के बारे में जानते है कि DNA क्या होता है और यह कैसे काम करता है तथा इसकी खोज किसने की थी।

DNA क्या होता है?

हम सभी जानते है कि हमारा शरीर कोशिकाओं से मिल कर बना होता है और लगभग हमारे शरीर की हर कोशिका में DNA यानी कि genetic code पाया जाता है। सिर्फ RED BLOOD CELLS यानी RBC में DNA नही होता है।

DNA में हमारे development, reproduction, growth, और कार्य के लिए निर्देश होते है और DNA में चार basis पाए जाते है। Adenine (A), Cytosine (C), Guanine (G), Thymine (T ) इन चारों basis का क्रम ही अनुवांशिक code बनाता है। जो जीवन के सारे कामो को करने के लिए हमे निर्देश देते है और इन्हें DNA sequence भी कहा जाता है।

इसलिए DNA हमारे लिए इतना important होते है। ज्यादातर DNA,  nucleus DNA में पाए जाते है। जिसे nuclear DNA कहा जाता है। यह nuclear DNA 99% पाया जाता है। और इसके एक छोटे हिस्से को mitochondrial DNA कहा जाता है जो की 1% का होता है।

डीएनए जैविक अमल nitrogen से मिल कर बनता है। और इंसानों में पाए जाने वाले डीएनए में लगभग तीन million base होते है तथा लगभग 99.9% DNA हर इंसान में एक समान होता है तथा इसका आकार घुमावदार सीढ़ी की तरह होता है जिसे double helix कहा जाता है और यह प्रत्येक जीव में पाया जाता है।

DNA की बात करे तो यह हर जीव के लिए जरूरी है क्योंकि डीएनए में genetic गुण मौजूद होते है। डीएनए में एक molecule पाया जाता है जिसमे सभी जीवों के genetic code मौजूद होते है और यह सभी प्रकार  के living cells में पाया जाता है जैसे कि मनुष्यों, जीव जंतुओं, पेड़ पौधों, कीटाणु, बैक्टेरिया आदि।

डीएनए प्रत्येक जीव के लिए महवपूर्ण होता है। अगर हम इंसानों की बात करे, तो प्रतेक इंसान में अपने माता पिता से 23 जोड़ें डीएनए मिलते है और इन में से हर एक जोड़ा एक माता और एक पिता के डीएनए से मिल कर बनता है। हम जानते है कि हमारे शरीर मे पाए जाने वाला DNA हमे हमारे माता पिता से ही मिलता है और हर व्यक्ति का डीएनए ऐसे ही अपने माता पिता के डीएनए के मिश्रण से बना होता है। यही एक विशेष कारण है कि हमारे अधिकतर लक्षण हमारे माता पिता से मिलते जुलते होते है। जैसे कि हमारा चेहरा, हमारा रंग, हमारा तरीका, हमारी शारीरक संरचना, हमारी आँखे, हमारे बाल आदि। लेकिन इसके इलावा भी कई प्रकार के उनके पुरखों के लक्षण DNA की वजह से पाए जाते है।

DNA काम कैसे करता है।

डीएनए DNA बहुत से RNA का निर्माण करता है जिसके द्वारा प्रोटीन को बनाया और नियंत्रित किया जाता है। डीएनए हमारे body में बनने वाले सभी complex चीज़े की जानकारी को अपने पास रखता है जो कि हुमारे जीवन के लिए जरूरी होती है और बहुत से enzyme भी डीएनए पर ही काम करते है। यह मुख्य रूप से जेनेटिक कोड्स का इस्तेमाल कर प्रोटीन में amino acid के अवशेषो को sequence में decode करता है। 

DNA की खोज किसने की थी।

डीएनए की खोज 1953 में की गई थी और इसकी खोज James Watson और Francis Crick ने मिल कर  की थी। DNA के model को Watson crick model भी कहा जाता है। 1962 में DNA के खोज के लिए इन्हें Nobel पुरस्कार से सम्मानित किया गया। DNA की आणविक संरचना का model देने वाले Watson और Crick थे लेकिन वास्तव में इसकी खोज Johann Friedrich Miescher ने की थी।

DNA full form – डीएनए फुल फॉर्म

डीएनए का full form Deoxyribonucleic Acid होता है और डीएनए nitrogen छार से बना जैविक अम्ल है। डीएनए में nucleus पाया जाता है इसलिए इसे nucleus माना जाता है। DNA एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में transfer होता रहता है इसीलिए DNA कभी मरता नही है।

DNA हर कोशिका में 0.09 माइक्रोमीटर की जगह घेरता है और आपको यह जानकर हैरानी होगी कि चिंपांजी और मनुष्यों में 98 percent DNA की समानता होती है। तथा हमारे शरीर मे लगभग रोजाना 1000 से लेकर 10 लाख तक डीएनए बनते है और रोजाना खत्म होते रहते है। तो सोचिए DNA का हमारे जीवन मे कितना महत्व होता है और अगर हमारे शरीर मे DNA न होता तो न प्रजनन की प्रक्रिया होती और न आज हमारा वजूद नही होता।

DNA test क्या होता है और इसे कैसे किया जाता है और इसकी जरूरत क्यों पड़ती है।

डीएनए test की जरूरत हमे अपने जीवन मे कभी भी करवाने की जरूरत पड़ सकती है। ऐसे में हमे इसके बारे में जानकारी होनी चाहिए, कि डीएनए test होता क्या है और इसे क्यों करवाने की जरूरत पड़ती है।

आज science के पास DNA के लगभग 1200 test मौजूद है। DNA test की मदद से किसी भी व्यक्ति के साथ संबंध के बारे में हमे पता लगाया जा सकता है। इस test से आप बड़े ही आसानी से अपने माता पिता, वंश, खानदान और बच्चा आपका है या नही इसके बारे में भी पता लगा सकते है। इस test की मदद से कई बार अपराधो को सम्बंधित करने में और मुर्दा लोगो की पहचान करने में भी मदद मिलती है। डीएनए test की मदद से नवजात शिशु में मौजूद किसी भी बीमारी का उसके DNA से पता किया जा सकता है।

DNA test कराना बहुत ही आसान है इसके लिए जिस व्यक्ति का DNA test करवाना होता है उसका खून, बाल, त्वचा और गालों के अंदरूनी हिस्सो को sample के तौर पर लिया जाता है और अगर किसी भी बच्चे का जन्म से पहले डीएनए test करवाना होता है तो उसका amniotic fluid का sample लिया जाता है। amniotic fluid उसे कहते है जो pregnancy में बच्चो के चारो ओर मौजूद तरल पदार्थ होता है।

आज के समय मे जो लोग खुद से माँ बाप बनने में सक्षम नही होते है, ऐसे लोग ivf (In vitro fertilization) का सहारा लेते है। ivf से आप माँ बाप बनने का सुख प्राप्त कर सकते है। इसमे पुरुष के sperm और स्त्री के ovum को इस्तेमाल में लेते है। यदि आपको लगता है कि आपके sperm के साथ छेड़ छाड़ हुई है तो आप DNA test करवा कर उसे confirm कर सकते है कि इसमे आपका ही sperm और ovum use लिया गया है या नही।

DNA test करवाने के लिए कौन कौन से documents की जरूरत पड़ती है।

DNA test करवाने के लिए आपके पास कुछ documents का होना जरूरी होता है जैसे कि आपका कोई भी valid id proof, और साथ ही test के समय आपको एक form भी fill करना पड़ता है जिसमे आपके parents के signature होने जरूरी होते है और अगर आप यह test अपनी मर्ज़ी से करवा रहे है तो आपको court की अनुमति लेने की कोई जरूरत नही पड़ती। लेकिन अगर आप DNA test किसी विवाद को सुलझाने के लिए करवाते है या दो पक्षो को लेकर test करवाते है तो आपको court की अनुमति की आवयशकता पड़ सकती है इसके लिए आप किसी वकील की मदद ले सकते है।

अगर आप private lab में DNA test करवाते है तो इसके लिए आपको 10 हज़ार से 40 हज़ार तक खर्चा आ सकता है। लेकिन अगर आप इसे court की मदद से करवाना चाहते है तो आपको इसके लिए 50 हज़ार तक खर्च करना पड़ सकता है। अगर आप अपने बच्चे का जन्म से पहले test करवाना चाहते है तो इसके लिए आपको 1 लाख तक खर्च करना पड़ सकता है। test के बाद आपको 15 दिनों के अंदर DNA की report मिल जाती है।


और पढ़े: Global Warming in Hindi | ग्लोबल वार्मिंग क्या है?